Join Online Test Series in Our Hi-tech computer lab, only Rs 300 . For More info contact us : 9828710134, 9982234596

Current Affairs : 27-05-2018

1) 25 मई 2018 को कौन सी कम्पनी 7 ट्रिलियन रुपए (7 लाख करोड़ रुपए) के बाज़ार पूँजीकरण (market capitalization) को पार करने वाली पहली भारतीय कम्पनी बन गई? - टाटा कन्सलटेंसी सर्विसेज़ (TCS)

विस्तार: देश की सबसे बड़ी सॉफ्टवेयर कम्पनी टाटा कन्सलटेंसी सर्विसेज़ (Tata Consultancy Services Ltd. - TCS) 25 मई 2018 को 7 ट्रिलियन रुपए (7 लाख करोड़ रुपए) के बाज़ार पूँजीकरण को पार करने वाली पहली भारतीय कम्पनी बन गई।
- बाज़ार में आई तेजी के चलते कम्पनी का बाज़ार पूँजीकरण बीएसई (BSE) पर 703,309 करोड़ रुपए तक पहुँच गया। उल्लेखनीय है कि टीसीएस (TCS) का बाज़ार पूँजीकरण इसी वर्ष 6 ट्रिलियन रुपए के स्तर को पार कर गया था तथा यह कम्पनी रिलायंस इण्डस्ट्रीज़ लिमिटेड (RIL) के बाद इस मुकाम को हासिल करने वाली देश की दूसरी कम्पनी बन गई थी।
........................................................................
2) अनुसंधानकर्ताओं के एक अंतर्राष्ट्रीय दल द्वारा वर्ष 2016 के लिए तैयार किए गए वैश्विक स्वास्थ्य सेवाओं तक पहुँच तथा गुणवत्ता सूचकांक (Healthcare Access and Quality (HAQ) Index) में भारत को कौन सा स्थान दिया गया है? - 195 देशों में 145वां स्थान
विस्तार: वैश्विक स्वास्थ्य सेवाओं तक पहुँच (healthcare access) तथा स्वास्थ्य सेवाओं की गुणवत्ता के बारे में अनुसंधानकर्ताओं के एक अंतर्राष्ट्रीय दल द्वारा किए गए अनुसंधान में इस विषय के बारे में वर्ष 2016 के आंकड़े उल्लिखित किए गए हैं। इन आंकड़ों पर आधारित निष्कर्ष को ‘The Lancet’ नामक जर्नल में 23 मई 2018 को प्रकाशित किया गया। इसमें भारत को दुनिया भर के 195 देशों में 145वाँ स्थान प्रदान किया गया है। देश के नागरिकों तक स्वास्थ्य सेवाओं की पहुँच के मामले में भारत का स्थान चीन, बांग्लादेश तथा यहाँ तक की अफ्रीका के सूडान से भी नीचे है।
- इस अनुसंधान में दुनिया भर के देशों के नागरिकों की स्वास्थ्य सेवाओं तक पहुँच को मापने के लिए 32 प्रकार के रोगों से इन देशों में होने वाली प्रीमैच्योर मौतों को दूर रखने की क्षमता का आकलन किया गया है। वर्ष 2016 के इस सूचकांक में भारत को 100 में से 41.2 अंक मिले हैं जबकि वर्ष 1990 में भारत को 24.7 अंक ही हासिल हुए थे।
- गोवा (Goa) तथा केरल (Kerala), इन दोनों राज्यों के अंक 60 के ऊपर हैं, जिसका तात्पर्य यह है कि नागरिकों तथा स्वास्थ्य सेवाओं की पहुँच सुनिश्चित करने में यह राज्य देश के अन्य राज्यों से आगे हैं। वहीं असम (Assam) और उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) इस मामले में सबसे पिछड़े हैं तथा दोनों को हासिल अंक 40 के नीचे हैं।
- भारत की तुलना यदि अन्य देशों से की जाय तो 97.1 अंक के साथ आइसलैण्ड (Iceland) इस सूचकांक में सबसे ऊपर है, इसके बाद क्रमश: नॉर्वे (Norway - 96.6) और नीदरलैण्ड्स (Netherlands - 96.1) का स्थान है। वहीं सबसे निचले पायदान के देशों में मात्र 18.6 अंक के साथ सेण्ट्रल अफ्रीकन रिपब्लिक (Central African Republic) सबसे नीचे है, इसके बाद क्रमश: सोमालिया (Somalia – 19) और गिनी-बिसाऊ (Guinea-Bissau – 23.4) का स्थान है।
........................................................................
3) अंधता (Blindness) के एक प्रमुख कारक के रूप में गिने जाने वाले ट्रेकोमा (Trachoma) रोग का उन्मूलन करने वाला दक्षिण-पूर्व एशिया (South-East Asia Region) का पहला देश कौन बन गया है? - नेपाल (Nepal)
विस्तार: स्वास्थ्य क्षेत्र में नेपाल (Nepal) ने एक बड़ी उपलब्धि हासिल की जब विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organisation - WHO) ने स्विट्ज़रलैण्ड के जिनेवा (Geneva) में 21 मई 2018 को आयोजित एक कार्यक्रम में नेपाल द्वारा आंखों के रोग ट्रेकोमा का उन्मूलन करने (Elimination of Trachoma) की पुष्टि करने हेतु प्रमाण-पत्र प्रदान किया। इसके साथ ही नेपाल ट्रेकोमा का उन्मूलन करने वाला विश्व स्वास्थ्य संगठन के दक्षिण-पूर्व एशियाई क्षेत्र का पहला देश बन गया।
- उल्लेखनीय है कि ट्रेकोमा को दुनिया भर में अंधता के अग्रणी संक्रामक कारकों में से एक माना जाता है तथा इसके चलते दुनिया भर में लाखों लोग नेत्र-ज्योति से हाथ धो बैठते हैं। 80 के दशक में ट्रेकोमा नेपाल में रोके जा सकने वाली अंधता का दूसरा सबसे बड़ा कारण था।
- इस तथ्य को ध्यान में रखकर नेपाल की सरकार ने वर्ष 2002 में राष्ट्रीय ट्रेकोमा कार्यक्रम (National Trachoma Programme) की शुरूआत की। देश में ट्रेकोमा का उन्मूलन करने के लिए नेपाल की सरकार की मदद यहाँ के स्थानीय समुदायों, स्वास्थ्य कर्मियों तथा स्वयंसेवकों ने जमकर की तथा यह ऐतिहासिक उपलब्धि हासिल की।
........................................................................
4) देश का पहला राष्ट्रीय खेल विश्वविद्यालय (National Sports University) स्थापित करने के लिए केन्द्र सरकार ने एक अध्यादेश (Ordinance) लाने के प्रस्ताव को 23 मई 2018 को अपनी मंजूरी प्रदान कर दी। यह विश्वविद्यालय किस राज्य में स्थापित किया जायेगा? - मणिपुर (Manipur)00
विस्तार: देश का पहला राष्ट्रीय खेल विश्वविद्यालय मणिपुर (Manipur) राज्य के इंफाल (पश्चिम) में स्थापित किया जायेगा। इस सम्बन्ध में सरकार द्वारा लाया गया एक विधेयक संसद में विचाराधीन है तथा सरकार ने अब इस सम्बन्ध में एक अध्यादेश लाने का निर्णय 23 मई 2018 को लिया।
- इस प्रस्तावित खेल विश्वविद्यालय के लिए मणिपुर राज्य सरकार ने भूमि भी आवंटित कर दी है। यह जानकारी केन्द्रीय विधि मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने दी।
- राष्ट्रीय खेल विश्वविद्यालय के सम्बन्ध में केन्द्र सरकार का मानना है कि देश में खेल विज्ञान, खेल प्रौद्यौगिकी, उच्च स्तरीय प्रशिक्षण तथा ऐसे अन्य विषयों पर अभी बहुत किया जाना शेष है तथा यह विश्वविद्यालय इस दिशा में महत्वपूर्ण भूमिका निभायेगा।
........................................................................
5) अरुणाचल प्रदेश (Arunachal Pradesh) राज्य के उस सामुदायिक रिज़र्व (community reserve) का क्या नाम है जिसे अस्तित्व का भयंकर संकट झेल रहे एक पक्षी के संरक्षण में अद्वितीय भूमिका निभाने के लिए वर्ष 2018 का भारत जैव-विविधता पुरस्कार (India Biodiversity Award 2018) 22 मई 2018 को प्रदान किया गया? - सिंगचुंग बुगुन ग्राम सामुदायिक रिज़र्व (Singchung Bugun Village Community Reserve)
विस्तार: अरुणाचल प्रदेश राज्य की सिंगचुंग बुगुन ग्राम सामुदायिक रिज़र्व (Singchung Bugun Village Community Reserve) प्रबन्धन समिति को अंतर्राष्ट्रीय जैव-विविधता दिवस के अवसर पर 22 मई 2018 को वर्ष 2018 का भारत जैव-विविधता पुरस्कार (India Biodiversity Award 2018) प्रदान किया गया।
- इस सामुदायिक रिज़र्व को यह प्रतिष्ठित पुरस्कार "बुगुन लिओचिकला" (‘Bugun liocichla’) नामक अस्तित्व का भयंकर संकट झेल रहे एक पक्षी के संरक्षण में किए गए कार्यों के लिए प्रदान किया गया। यह पक्षी वर्ष 2006 में अरुणाचल प्रदेश के पश्चिमी कामेंग (West Kameng) जिले में खोजा गया था। खास बात यह है कि इस पक्षी का नाम इस जिले के सिंगचुंग गाँव (Singchung village) में रहने वाले बुगुन समुदाय के नाम पर रखा गया है जिसने इसके संरक्षण में महती भूमिका निभाई है।
- "बुगुन लिओचिकला" पक्षी की कुल जनसंख्या मात्र 14 से 20 है तथा यह 2200 मीटर की ऊँचाई पर स्थित सिंगचुंग गाँव के आस-पास के मात्र 3 से 4 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में पाई जाती है।
........................................................................
New Foundation Batch for SBI-PO, LIC and GIC-AO Starts From 10 December 2018, Monday at 10:00 AM. For more Details Contact us : 9828710134, 9982234596